नए साल की पहली चाय

(Scroll below for English translation– The First Cup of the New Year Tea)

फ़र्क़ सिर्फ़ इतना था 

कि बाक़ी सब प्रियजन पुराने साल में अभी तक सो रहे थे 

और मैं जल्दी उठ कर 

नये साल की पहली चाय बना रहा था 

देखा जाए तो नए साल की पहली चाय में 

कुछ नया नहीं है

वही अदरक के तीखे तेवर  

चायपत्ती का हल्का कड़वापन 

गुड की मनमोहक मिठास 

और दूध का प्यार भरा अंदाज़ 

और मेरे जीवन में भी कुछ कायाकल्प नहीं हुआ आज 

टेबल पे कुछ सपने अधूरे पड़े हैं 

जीने की क़ीमतें याद दिलाती रसीदें बुकमार्क बन चुकी हैं 

प्रिय जन अभी भी ३१ की रात की थकान में सो रहे हैं 

उनकी उम्मीदें और शिकायतें भी अधूरी हैं 

वो कहाँ पुराने साल के दायरे में दफ़्न होती है 

वो तो बस नए साल की अपेक्षा में पुनर्जन्म लेती है 

चाय का प्याला धीरे धीरे ख़ाली हो रहा है 

क्या उसे पता है नए साल होने का मतलब?

वो तो रोज़ शिद्दत से मुझे उठाता है 

चंद पलों के लिए अपनी महफ़ूज़ दुनिया में लाता है 

फिर ख़ाली होकर धुलता है 

और रात भर एक नई सुबह की नई चाय का इंतज़ार करता है

काश मैं भी यह सीख पाता 

अपनी भूमिकाओं को बख़ूबी निभा कर 

खालीपन में लौट जाता 

और हर सुबह ही एक नए साल का इंतज़ार करता 

मैं भी तो एक ख़ाली प्याला हूँ 

मिट्टी से तपकर बना हूँ 

मिट्टी में ही मिल जाऊँगा एक दिन 

हर सुबह एक नई चाय मेरे जीवन को भरती है 

कुछ मिठास कुछ कड़वापन लिए 

मुझे एक दिन और जीने के लिए प्रेरित करती है

हर रात मैं अकेले बिताता हूँ 

उन शांत पलों में अपने विधाता के क़रीब आता हूँ 

हर सुबह मैं एक प्याला बन जाता हूँ 

और एक नई चाय को गले लगाता हूँ

— मनीष श्रीवास्तव

१।१।२०२३

सुबह ६।३० बजे 

(This poem is a part of upcoming book by Manish Srivastava. Pls write to speaktomanu@gmail.com for more details)

(english translation)

The First Cup of the New Year Tea 

The only difference was 

That my loved ones were still sleeping in the comfort of the old year 

While I woke up early to make myself 

The first cup of the new year tea 

Otherwise, there is nothing special 

About this tea 

Same refreshing sharpness of ginger 

Necessary bitterness of tea leaves 

Uplifting sweetness of jaggery 

And loving harmony of the boiled milk 

Likewise, there is nothing transformative 

About my new year’s morning 

My table is filled with many unfinished dreams 

Bills have become bookmarks 

Reminding me of the cost of living 

My family sleeps in the exhaustion of the old year 

While their hopes and complains 

Roll on the floor, waiting for the completion 

Desires never dissolve with the passing year 

They only get renewed with the new 

My teacup is slowly being emptied 

Does it (he) know the meaning of the new year? 

He loyally wakes me up every morning 

Gives me a few moments of warmth and safety 

Once emptied, he quietly waits to be washed 

The whole night he dries up alone 

Preparing for a new morning tea 

I wish he could teach me 

To play my part diligently each day 

Return to emptiness each night 

And wait for a new year to fill me up, each morning 

I am an empty cup of a tea 

Baked from earth 

In earth will I dissolve one day 

Every morning fills me up with life 

Inspiring me with its sweet bitterness 

Every night I retreat in solitude 

Awaiting a new cup of morning tea 

Happy new year, 2023! 

— Manish Srivastava 

6.30 am, 1st January 2023

(This poem is a part of upcoming book by Manish Srivastava. Pls write to speaktomanu@gmail.com for more details)

2 thoughts on “नए साल की पहली चाय

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s